इस वजह से कश्मीरी लड़कियां नहीं करती दूसरे राज्य के लड़कों से शादी

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद देशवासी आक्रोश में है और कई जगहों पर जम्मू कश्मीर में लागू धारा 370 को हटाने की मांग सरकार से कर रहे हैं। लेकिन क्या आप जानते हो धारा 370 क्या है और क्यों कश्मीरी लड़कियां नहीं करती दूसरे राज्यों के लड़कों से शादी आइए जानते हैं।

धारा 370 में कुछ ऐसे प्रावधान है जो भारत से जम्मू कश्मीर को अलग करने का काम करता है। इसीलिए जम्मू कश्मीर में धारा 370 को खत्म करने की मांग सालों से उठ रही है। आपको बता दें कश्मीर के नागरिकों को दोहरी नागरिकता मिली हुई है साथ ही जम्मू कश्मीर में भारत का झंडा भी नहीं फहराया जाता वहां पर कश्मीर का एक अलग झंडा है। यही वजह है कि कश्मीर में भारतीय झंडा का अपमान करने के बाद भी अपराध नहीं माना जाता।

दूसरे राज्यों के लड़कों से शादी क्यों नहीं करती कश्मीरी लड़कियां
आपको बता दें धारा 370 के मुताबिक अगर कोई कश्मीरी लड़की कश्मीर को छोड़कर देश के किसी और राज्य के लड़के से शादी कर लेती है तो उससे कश्मीर की नागरिकता छीन ली जाती है यानी शादी के बाद वह महिला और कश्मीरी नागरिक नहीं कह लाएगी। लेकिन एक कश्मीरी लड़की किसी पाकिस्तानी से शादी कर लेती है तो उस पाकिस्तानी को भी कश्मीर की नागरिकता मिल जाती है यही वजह है कि हमारे देश की सुरक्षा पर हर वक्त खतरा मंडराता रहता है।

आपको बता दें जम्मू कश्मीर में महिलाओं के ऊपर शरिया कानून लागू होता है। तो दोस्तों इन कारणों से ज्यादातर कश्मीरी लड़कियां नहीं करती किसी दूसरे राज्य के लड़कों से शादी।

Comments

comments