बिना तकिया के सोने से शरीर में होते हैं ये 3 बदलाव, जानकर हैरान रह जाओगे

आजकल अधिकतर लोग रात को सोते समय सिर के नीचे तकिया जरूर लगाते हैं। तकिया लगाने से नींद भले ही अच्छी आती होगी। लेकिन तकिया लगाना शरीर के लिए नुकसानदायक होता है। जो लोग तकिया लगा कर सोते हैं उनके रीढ़ की हड्डी, गर्दन और सिर एक दिशा में नहीं रहते हैं। इसकी वजह से रीड की हड्डी में दर्द होने लगता है। और अनेक समस्याएं हो सकती है। आज हम आपको बिना तकिया सोने के फायदे बताएंगे। आइए जानते हैं। बिना तकिया के सोने से शरीर में होते हैं ये 3 बदलाव, जानकर हैरान रह जाओगे।

1.पहला बदलाव- तकिया लगाकर सोने से रीढ़ की हड्डी पर दबाव पड़ता है। जिससे पीठ में दर्द होता है। जो लोग तकिया लगा कर सोते हैं उनकी गर्दन और रीड की हड्डी एक सीध में नहीं रहती है। जिसकी वजह से पीठ में दर्द हो सकता है। जो लोग बिना तकिए के सोते हैं उनकी गर्दन और पीठ दर्द नहीं होता है।

2.दूसरा बदलाव- तकिया लगाकर सोने वाले लोग रात भर तकिए को इधर-उधर एडजेस्ट करते रहते हैं। जिसकी वजह से नींद अच्छी तरह नहीं आती है। और दिनभर शरीर में थकान रहती है। तकिया भी अलग-अलग प्रकार की होती है। जिसकी वजह से एडजस्ट नहीं हो पाती है।

3.तीसरा बदलाव-जो लोग तकिया लगा कर सोते हैं उनके चेहरे पर दबाव पड़ता है। जिसकी वजह से चेहरे पर झुर्रियां पड़ सकती है। तकिया लगाकर सोने से अनिद्रा और तनाव जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं इसलिए हमेशा बिना तकिए के ही सोना चाहिए।

Comments

comments