दिल्ली विश्वविद्यालय के डॉ. भीमराव अंबेडकर कॉलेज का भूगोल विभाग ने मनाया दो-दिवसीय ‘भूगोल मेला’

दिल्ली विश्वविद्यालय के डॉ भीमराव अंबेडकर कॉलेज के भूगोल विभाग ने दो दिवसीय भूगोल मेला का आयोजन किया गया । भूगोल विभाग की प्रभारी डॉ. तूलिका सनाढ़्य ने बताया की इस वर्ष का मुख्य विषय “प्रकृति एवं स्वास्थ्य : प्रकृति बनाम आपदा है”। मुख्य वक्ता प्रोफेसर अनु कपूर ने अपने व्याख्यान में आपदाओं का भारत के संदर्भ में विश्लेषण करते हुए एक नए पैराड़ाइम प्रस्तु किया जिसके अनुसार आपदाए प्राकृतिक नहीं होती बल्कि मानव जनित होती हैं।

शिक्षकों द्वारा समर्पित एवं छात्रों द्वारा आयोजित इस ‘भूगोल मेला’ में अनेकानेक कार्यक्रम प्रति वर्ष आयोजित किया जाता है । इस वर्ष भी व्याख्यान, पोस्टर मेकिंग, क्विज़, मैप पॉइंटिंग, फोटोग्राफी एवं वाद-विवाद आदि आयोजित किया गया । इसमें विभिन्न कॉलेज के छात्र-छात्राएं प्रतियोगिता में भाग लेते रहे हैं और इस बार भी अनेक कॉलेज के विद्यार्थी इन प्रतियोगिता में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया ।

साथ ही पहली बार यह विभाग अपने विद्यार्थियों द्वारा निर्मित ‘इको-फ्रेंडली’ सम्बन्धी सामग्री की प्रदर्शनी लगाई जिनसे हम सीख सकते हैं कि कैसे अपनी पृथ्वी को पर्यावरणीय दृष्टि से संतुलित एवं संरक्षित रख सकते हैं और जीवन को सरल बना सकते हैं । छात्र-छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। साथ ही वर्तमान सत्र की विभागीय पत्रिका ‘भूचेतना’ को भी प्रकाशित करने की योजना है जिसमें भूगोल विषय से संबंधित महत्वपूर्ण लेख होंगे साथ ही कॉलेज के प्रधानाचार्य श्री जी. के. अरोड़ा ने इस कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिये अपनी शुभकामनायें दी ।

Comments

comments