बसंत पंचमी पर गलती से भी यह काम ना करे नहीं तो आप को भुगतना पड़ेगा बहुत बुरा

बसंत पंचमी का त्योहार 10 फरवरी के दिन मनाया जा रहा है। बसंत पंचमी माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि के दिन देवी सरस्वती की पूजा के रूप में मनाया जाता है। बसंत पंतमी के दिन के लिए ऐसी मान्यता है कि इस दिन शब्दों की शक्ति मनुष्य के जीवन में आई थी जिस कारण से देवी सरस्वती की पूजा की जाती है।

पुराणों में बसंत पंचमी के दिन के लिए लिखा है सृष्टि को वाणी देने के लिये ब्रह्मा जी ने कमंडल से जल लेकर सृष्टी के चारों दिशाओं में छिड़का। जिसके बाद इस जल से हाथ में वीणा धारण किये हुए देवी सरस्वती प्रकट हुई।

देवी सरस्वती के वीणा के तार छेड़ने से ही तीनो लोकों में ऊर्जा का संचार हुआ और सबको शब्दों की वाणी मिली। जिस दिन संसास को शब्दों की वाणी मिली वह दिन बसंत पंचमी का दिन था इसलिये बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती की पूजा की जाती है।

शास्त्रों में माना गया है कि बसंत पंचमी के दिन माता सरस्वती को प्रसन्न करने के लिए पीले वस्त्र पहनने चाहिए देवी सरस्वती को पीले और सफेद रंग के फूल चढ़ाने चाहिए। इसके साथ ही बसंत पंचमी के दिन शास्त्रों में बताई गई बातो का पालन करने से देवी प्रसन्न होती है।

बसंत पंचमी के दिन न करें ये 5 गलतियां-

1.बसंत पंचमी के दिन काले रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

2.बसंत पंचमी वाले दिन सात्विक भोजन करें।

3.बसंत पंचमी के दिन पेड़-पौधों को नहीं काटना चाहिए।

4.बसंत पंचमी के दिन प्यार और संयम से बोलें किसी से लडाई झगड़ा ना करें।

5.बसंत पंचमी के दिन सुबह स्नान कर देवी सरस्वती की पूजा जरुर करें।

Comments

comments