बवासीर और खुजली का काल है यह पौधा, इस्तेमाल करने का तरीका मालूम होना चाहिए

आप सभी ने आक का पौधा तो जरूर देखा होगा। यह लगभग सभी क्षेत्रों में पाई जाती है। यह पौधा ज्यादातर खुले जगहों में देखी जाती है। हालांकि यह पौधा बहुत जहरीला होता है। इसलिए इसका इस्तेमाल करने से बहुत से लोग डरते हैं। लेकिन आपको बता दे की आक का पौधा औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इसका इस्तेमाल पूजा के लिए भी किया जाता है। हालांकि यह पौधा जितना जहरीला होता है। उतना ही स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद भी होता है. यह पौधा बवासीर और खुजली का काल है। इसके इस्तेमाल से बवासीर और खुजली को जड़ से ठीक किया जा सकता है। बस इसका इस्तेमाल करने का तरीका मालूम होना चाहिए।

1.बवासीर- बवासीर एक ऐसा रोग है जो काफी कष्ट देता है क्योंकि इस रूप के हो जाने पर व्यक्ति ना तो अच्छे से बैठ सकता है। नहीं अच्छे से खा पी सकता है। यह बीमारी व्यक्ति को बहुत ही कष्ट देता है। इस बीमारी के होने का मुख्य कारण पेट की खराबी होता है। बार-बार कब्ज का होना, बार-बार पतले दस्त होना, ज्यादा तीखा भोजन करना आदि के कारण यह बीमारी होती है। इस बीमारी को दूर करने के लिए आक के पौधे के फूल और पत्तियों को जलाकर उसके धोने का उपयोग सेखने के लिए करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको बवासीर जैसे रोग में होने वाले दर्द से राहत मिलेगी।

2.खुजली- खुजली का रोग एक ऐसा समस्या है जो यदि शरीर में एक बार हो जाए तो ठीक होने का नाम ही नहीं लेता है। एक जगह से शुरुआत होकर पूरे शरीर में यह धीरे-धीरे फैल जाता है। यदि इसका इलाज सही समय पर नहीं किया जाए तो जल्दी ठीक नहीं होता है। ऐसे में यदि आप खुली जैसे खतरनाक समस्या से परेशान है तो उसके लिए आप आपके जड़ को जला कर राख बना लें। अब उस राह को सरसों के तेल में मिलाकर खुजली वाली जगह पर लगाएं। नियमित रूप से ऐसा करने से खुजली की समस्या से छुटकारा मिल जाती है।

Comments

comments