शाओमी का बड़ा धमाका , खतरे में पड़ी गूगल , व्हाट्सएप , पेटीएम की यह सर्विस

भारत के पेमेंट सर्विस सेगमेंट में चीन की स्‍मार्टफोन निर्माता कंपनी शाओमी भी अब प्रवेश करने जा रही है। सूत्रों के अनुसार शाओमी को भारत में अपनी पेमेंट सर्विस मी पे को शुरू करने के लिए एनपीसीआई से अंतिम मंजूरी हासिल हो गई है। वर्तमान में शाओमी भारत में दूसरी सबसे बड़ी स्‍मार्टफोन विक्रेता कंपनी है। शाओमी ने अपनी पेमेंट सर्विस के लिए पहले ही परीक्षण कर चुकी है और अब यह मी पे के लिए बीटा टेस्‍टर को आमंत्रित कर रही है। शाओमी ने मी पे के लिए आईसीआईसीआई बैंक और पेयू के साथ भागीदारी की है।

मी पे के साथ भारतीय उपभोक्‍ता यूपीआई, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग के जरिये पेमेंट कर पाएंगे। मी पे के जरिये उपभोक्‍त अपने फोन बिल, पानी बिल, बिजली बिल आदि का भी केवल एक टैप में भुगतान कर पाएंगे।
एनपीसीआई ने शाओमी को पेमेंट सर्विस के लिए लार्ज यूजर यूसेज को मंजूरी दी है, जबकि व्‍हाट्सएप को केवल 10 लाख यूजर ग्रुप की ही मंजूरी मिली हुई है। अलीबाबा के बाद शाओमी चीन की ऐसी दूसरी कंपनी होगी, जो मोबाइल पेमेंट सेगमेंट में बड़ा दांव लगाने जा रही है। अलीबाबा ने मोबाइल वॉलेट कंपनी पेटीएम में भारी निवेश किया है।

शाओमी के प्रवक्‍ता ने भी इस नए डेवलपमेंट के बारे में पुष्टि की है। इससे पहले शाओमी ने चीन में चाइना यूनियनपे के साथ मिलकर 2016 में मी पे की शुरुआत की थी। मी पे अब भारत में गूगल पे, फोन पे, व्‍हाट्सएप और पेटीएम सहित अन्‍य पेमेंट कंपनियों को टक्‍कर देगी।

Comments

comments