कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री आखिर क्यों इस राज्य से इस कद्दावर मुस्लिम नेता को खत्म करना चाहता है

राजनीति और सार्वजनिक जीवन में तमाम उपलब्धियों को हासिल करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने शनिवार को अपनी अहम राजनीतिक रणनीति का खुलासा किया है और वह है, असम की राजनीति से बदरुद्दीन अजमल का सफाया।

अपने आवास पर उन्होंने पत्रकारों को यह जानकारी दी। इसकी वजह भी उन्होंने बता दी। वो बोले, भाजपा और एआईयूडीएफ ने असम की राजनीतिक माहौल को तबाह कर डाला है। इन्हें यहां के राजनीतिक परिदृश्य से हटाना ही उनका खास मकसद रह गया है। उनके शब्दों में कहें तो राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में हारने के बाद भाजपा की लोकप्रियता देश भर में घटी है। असम में भी इसका असर पड़ेगा। यहां के भ्रष्ट नेता राज्य में भाजपा को बचा नहीं पाएंगे।

बुजुर्ग कांग्रेसी नेता ने दावा किया कि कांग्रेस देश से मिटाई नहीं जा सकती । जो भी उसे देश से मिटाने की सोचता है वह मूर्खों के स्वर्ग में रहता है। प्रदेश अध्यक्ष रिपुन बोरा और उपाध्यक्ष रकीबुल हुसैन जैसे दिग्गज नेताओं के इलाके की पंचायतों में कांग्रेस के कमजोर प्रदर्शन को उन्होंने प्रचार की कमी का नतीजा बता डाला। उन्होंने ये भी कहा कि लोग बकवास करते हैं कि कांग्रेस मुस्लिम मतों के आधार पर अनेक जगहों में जीती है। प्रमाण के तौर पर ही ले लीजिए, कांग्रेस को शिवसागर जैसे हिंदू बहुल इलाकों में भी जबर्दस्त सफलता मिली है।

Comments

comments