ये हैं वर्ल्ड की पांच अजीबो-गरीब टैक्स कहीं ब्रेस्ट तो कहीं सेक्स पर टैक्स लगता है

टैक्स किसी भी देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी होती है बजट कैसा भी हो लेकिन हर तरफ यही होता है कि टैक्स कम होगा या ज्यादा आज हम आपको दुनिया के ऐसे अजीबोगरीब टैक्स के बारे में बताना जा रहे हैं अगर वह आज के समय में होते तो हंगामा हो जाता ।

1.सेक्स टैक्स: कभी सेक्स टैक्स के बारे में सुना है। नहीं तो फिर जान लीजिए कि जर्मनी में सैक्स टैक्स जैसे कानून बनाए गए हैं। यहां प्रॉस्टिट्यूशन लीगल है। 2004 में इस कानून को बनाया गया। जिसके तहत हर प्रॉस्टिट्यूट को हर महीने 150 यूरो देने पड़ते हैं। इस सेक्स टैक्स के चलते यहां एक साल में 1 मिलियन यूरो की आमदनी होती है।

2.ब्रेस्ट टैक्स: ब्रेस्ट टैक्स, ये सुनने में थोड़ा अजीब है लेकिन इतिहास के पन्ने पलटने पर पता चलता है दक्षिण भारत के स्टेट ऑफ त्रावनकोर में महिलाओं पर ब्रेस्ट टैक्स लगाया जाता था। इसमें ब्रेस्ट माप कर उसी के अनुसार टैक्स कलेक्टर्स टैक्स वसूलते थे। 19वीं सदी के शासकों ने वहां यह नियम बनाया था कि छोटी जाति की महिलाएं अपने तन को ऊपर से ढक नहीं सकतीं। उन्‍हें उसे खुला रखना होगा। अगर कोई महिला अपना ऊपरी शरीर ढकती है तो उसे टैक्‍स देना होगा। यहां की एक बहादुर महिला नांगेली के बलिदान की बदौलत यह प्रथा खत्‍म हुई। इस महिला ने अपने तन को ढका और टैक्‍स लेने वाले अधिकारी को अपनी ब्रेस्‍ट काटकर ही टैक्‍स के रूप में दे दी। नांगेली की मौत हो गई, मगर उस घटना के अगले ही दिन त्रावनकोर के महाराजा ने यह टैक्‍स हटा दिया।

3.टैटू टैक्‍स: अमेरिका के अरकानसास में टैटू करवाने पर भी टैक्‍स लगाया जाता है। साल 2005 में सरकार ने टैटू करवाने और बॉडी पियरसिंग सर्विस पर 6 फीसदी का टैक्‍स लगाया है।

4.यूरिनल पर टैक्स: यूरिनल टैक्स रेवेन्यू कलेक्ट करने का एक जरिया था। रोम के राजा वेस्पेशन ने यह टैक्स लगाया था। लेकिन उसके बेटे टाइटस ने इसका विरोध किया। उसका कहना था कि यूरिनल पर टैक्स लगाना गलत है। उसने अपने पिता से कहा कि यूरिनल पर टैक्स के पैसों से बदबू आती है।

5.दाढ़ी रखने पर टैक्स: 1705 में रूसी रूलर पीटर द ग्रेट ने दाढ़ी टैक्‍स लागू किया। वो यूरोप के क्‍लीन शेव वाले कल्‍चर की नकल करना चाहता था। ऐसे में जो लोग दाढ़ी रखते थे उन पर टैक्‍स लगाया जाता था। दाढ़ी रखने वाले लोगों को अपने पास एक टोकन रखना होता था, जो इस बात का सबूत होता था कि उन्‍होंने टैक्‍स भर दिया है। लोग दाढ़ी रखने से परहेज करें इसके लिए टोकन पर यह भी लिखा होता था कि दाढ़ी महज एक बोझ है।

Comments

comments