पाकिस्तान में मौजूद है ये 3 प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर । जहां मुसलमान भी करते है जाना पसंद ।

पाकिस्तान देश जो 1947 में भारत के विभाजन के दौरान भारतीय मुसलमानों के लिए स्वतंत्र घर के रूप में बनाया गया था। यहां आज भी कई हिंदू मंदिर है लेकिन विभाजन के बाद पाकिस्तान में सैकड़ों मंदिर नष्ट हो गए और कुछ हिंदू मंदिरों को मस्जिद, होटल या पुस्तकालयों में परिवर्तन कर दिया गया। दरअसल पाकिस्तान में अभी भी कई हिंदू देवताओं का घर है।

आज भारत में मुस्लिमों की आबादी 14 % है जबकि पाकिस्तान में हिंदुओं की आबादी 2% है। हालांकि पाकिस्तान में अभी भी कई हिंदू मंदिर है, जहां ना केवल हिंदू बल्कि मुस्लिम और सिख द्वारा भी देखे जाते हैं पाकिस्तान में बहुत से ऐसे मंदिर जिसे अलग-अलग नामों से भी बुलाते हैं।

1. हिंगलाज माता मंदिर – बलूचिस्तान

बलूचिस्तान में हिंगोल नदी पर स्थित एक मंदिर जो की गुफा में है। लोग इस मंदिर को नानी मंदिर कहते हैं लेकिन हिंदू इस मंदिर को ‘शक्ति पीठ’ या ‘देवी मंदिर’ कहते हैं, जबकि मुस्लिम इसे ‘नानी’ या ‘बीबी नानी’ मंदिर कहते हैं।

2. पंचमुखी हनुमान मंदिर – कराची, पाकिस्तान

कराची के सैनिक बाजार में स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर 15 वर्ष पुराना मंदिर है या मंदिरों के अधिकांश हिस्सों से अलग है। क्योंकि सभी जाति, पंथ और धर्म के लोग मंदिर जाते हैं और तीर्थयात्रियों का मानना है कि उनकी इच्छा पूरी होती है।

3. जगन्नाथ मंदिर- पंजाब प्रांत, पाकिस्तान

पाकिस्तान में सियालकोट में पेरिस रोड क्षेत्र में स्थित जगन्नाथ मंदिर 2007 में बनाया गया था। सरकार ने इसे अनुदान के 2,00,000 रुपए के साथ बनाया गया था जगन्नाथ मंदिर भगवान जगन्नाथ को समर्पित है।

Comments

comments