घर को बनवाते समय रखे खिड़की किधर बनवाने का ध्यान वरना होंगे बुरे परिणाम ।

वास्तु के अनुसार अगर घर में बनी खिड़कियों की संख्या और दिशा सही है, तो घर में सुख-समृद्धि आती है। वास्तुशास्त्र में खिड़कियों को लेकर बहुत सी बातों के बारे में जानने को मिलता है। इसको केवल हवा और रोशनी देने वाली मानी जाती हैं लेकिन अगर इसे लगाने से पहले इसकी सही दिशा का चुनाव किया जाए तो ये घर में सुख के द्वार खोल देती हैं। आज आपको बताएंगे कि खिड़कियां कितनी और किस दिशा में होनी चाहिए।

1. खिड़कियों की संख्या कम से कम ही रखें और असमान संख्या नहीं होनी चाहिए।

2.वास्तु के अनुसार खिड़कियों की दिशा भी बहुत मायने रखती है। यह पूर्व, पश्चिम और उत्तर दिशा में हो तो शुभ फल प्रदान करती हैं। दक्षिण दिशा यम की दिशा है, इस दिशा में खिड़कियां बनवाने से बचना चाहिए।

3.घर के मुख्यद्वार है के दोनों तरफ खिड़कियां बनवाए। इससे सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह लगातार बना रहता है।

4.रोजाना घर की खिड़कियों को अच्छे से साफ करना चाहिए। इन्हें खोलते या बंद करते समय आवाज नहीं होनी चाहिए, वरना ये आवाज़ घर में नकारात्मक ऊर्जा पैदा करती हैं।

5.पूर्व दिशा में खिड़कियां होनी चाहिए क्योंकि ये भगवान सूर्य की दिशा है। इससे रोशनी के साथ सौभाग्य भी लेकर आती हैं। घर-परिवार के लोगों को लगातार तरक्की मिलती है।

6.उत्तर दिशा को धन के देवता कुबेर की दिशा मानी जाती है। इस दिशा बनीं खिड़कियां परिवार पर कुबेर देवता की कृपा दृष्टि बरसाती रहती हैं।

7.घर का निर्माण करते समय जिस दीवार में खिड़की बनाई जाए, वह ऊपर नीचे न होकर एक ही लाइन में बनानी चाहिए।

8.खिड़की के सामने कोई टावर, बिजली का ट्रांसफॉर्मर, डिश एंटीना आदि लगा हो, तो इससे बच्चों की पढ़ाई पर असर पड़ता है। अगर हो सके तो खिड़की के सामने पौधे लगाना अच्छा होता है।

9.रोजाना खिड़कियों को थोड़े समय के लिए खोला छोड़े, जिससे कि शुद्ध हवा, रोशनी और पॉजिटिव एनर्जी का वास होता रहता है।

Comments

comments