अभिव्यक्ति की आजादी की बात करने वालों ने रोकी बोलने की आजादी

देश का सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय किसी न किसी कारण से चर्चा में बना रहता है। इसी क्रम में बीते शुक्रवार की रात को लव जिहाद के विषय पर बनी फिल्म पर विवाद हो गया । इस फिल्म की स्क्रीनिंग के दौरान जमकर तोड़फोड़ की गई तथा मामला मारपीट तक पहुंच गया । प्रदर्शित की जा रही फिल्म का नाम द लव ऑफ लव जिहाद हैं ।

जिसकी स्क्रीनिंग विवेकानंद विचार मंच द्वारा की जा रही थी । इस वक्त फिल्म के अंदर केरल में हिंदू लड़कियों के साथ धर्मांतरण के मुद्दे को दिखाया जा रहा था । इस फिल्म को लेकर स्क्रीनिंग शुरू होने से पहले ही जेएनयू छात्र संघ वह लेफ्ट विंग के सदस्य इसका विरोध कर रहे थे लेकिन तभी दोनों गुट आपस में भिड़ गए सत्ता मामला मारपीट तक पहुंच गया।

इसमें कई छात्र घायल हुए हैं तथा दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर आरोप लगाए हैं। दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ बसंतकुंज थाने में शिकायत भी दर्ज कराई है । इस फिल्म को दिखाने का मकसद केरल में हो रहे धर्मांतरण को सबके बीच लाना था । कार्यक्रम के आयोजक का कहना है कि जेएनयू छात्रसंघ लेफ्ट विंग के समर्थकों ने काफी बदसलूकी की तथा स्क्रीन की तार तक तोड़ दी जहां खड़े सुरक्षाकर्मी भी कुछ नहीं कर पाए क्योंकि इन लोगों ने उनके ऊपर तक हमला कर दिया ।

आयोजक का यह भी कहना है कि लेनिन के समर्थकों ने एबीवीपी के कार्यकर्ताओं के साथ भी काफी बदसलूकी की तथा उनके उनके ऊपर भी हमला कर दिया। सुरक्षा गार्ड पर हमले के आरोप पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष मोहित पांडे वर्तमान छात्र संघ अध्यक्ष गीता कुमारी पर लग रहे हैं सुरक्षा गार्ड के ऊपर गाड़ी चढ़ा देने का भी आरोप मोहित पांडे पर लग रहा है । सुरक्षा गार्ड को एम्स में भर्ती कराया गया है ।

Comments

comments