Sukanya Samriddhi Yojana क्या है ? और इसका लाभ क्या है?

प्रधानमंत्री मोदी ने Sukanya Samriddhi Yojana की शुरुआत की है।
जिससे आपकी बेटी की पढ़ाई व शादी के लिए पैसे की टेंशन दूर होगी।
इस योजना का लक्ष्य है ज्यादा से ज्यादा बच्चियों को शिक्षित किया जा सके।
माता पिता को बच्चियों की शादी पढाई के खर्चे की चिंता से दूर रखने के लिए ये योजना लायी गई है।
डाक विभाग के सभी पोस्ट ऑफिसेज और सभी बैंको के सभी शाखाओं में खाता खोल सकते है।

क्या है ये Sukanya Samriddhi Yojana

इस अकाउंट में हर साल कम से कम 1 हजार और अधिक से अधिक एक लाख पचास हजार रुपया।
कहने का मतलब 1 हजार से लेके 1 लाख पचास हजार के बिच कोई भी रकम जमा कर सकते हैं।
यह रूपये खाता खुलने के 14 साल तक जमा करते रहना पड़ेगा।
लेकिन खाता बिटिया के 21 साल की होने पर ही मैच्योर होगा माने पूरा पैसा 21 साल के होने पर ही निकाल सकते है।
लेकिन आप चाहे तो बेटी के 18 साल के होने पर आधा पैसा निकलवा सकते हैं।

किसे मिलेगा Sukanya Samriddhi Yojana का पैसा

बेटी के 21 साल होने के बाद इस योजना का पैसा बेटी गार्जियन को मिल जाएगा।
अगर बिटिया की 18 से 21 साल के बीच ब्याह हो जाता है तो खता उसी वक्त बंद हो जाएगा।
अगर आप खाते में पैसा डालने से लेट हो जाते है तो आपको 50 रुपए की जुरमाना लगेगा।
दो बेटियों के माता पिता को 2 अकाउंट खोलने पड़ेंगे इस योजना का लाभ उठाने के लिए।

ये है Sukanya Samriddhi Yojana का गणित

अगर आप अपनी बेटी का खाता 2017 में 1,000 रुपए महीने के हिसाब से खोलते है।
तो रकम 14 साल तक यानी 2030 तक हर साल 12 हजार रुपए डालते है।
मौजूदा ब्याज दर से उसे हर साल 9.1 % ब्याज मिलता रहेगा तो जब बच्ची 21 साल की होगी तो उसे 6,07,128 रुपए मिलेंगे।
यहां आपको बता दें कि 14 सालों में बेटी के अकाउंट में कुल 1.68 लाख रुपए ही जमा करने पड़े।
इसके अलावा बाकी के 4,39,128 रुपए ब्याज के हैं।

इसे भी पढ़े – योगी सरकार लाने जा रही है ‘भाग्यलक्ष्मी योजना’ जिसमे बेटियों को मिलेगा अनेको लाभ

Comments

comments