अगर देश के मुसलमान हथियार उठा लिए तो देश संभालना मुश्किल हो जायेगा – अबू आजमी

जनाब तो ऐसे कह रहे है जैसे सभी मुसलमानो के ठेकेदार हो और हथियार चलाना सिर्फ मुसलमानो को ही आता है. अरे भाई हथियार निकले तो कत्लेआम होगा. कई बच्चे यतिम और औरते बेवा होगी, ये हालत दोनो तरफ होगी.

लेकिन बडे नेता और अमीरजादे बडे महफुज होगे और लडेंगे हाथ ठेलेवाले, रिक्शावाले, मजदुर, हमाल, सडक के किनारे बैठकर रोजी रोटी कमाने वाले मरेंगे भी वो ही. फिर यही भडकानेवाले घडीयाली आँसु बहाकर जोर जोर से यतिमो और बेवाओ को ईन्साफ दिलाने बात करेंगे. अबु आजमी भडकाना छोड नही तो तु खुद हथियार लेकर पहले दोचार को खत्म कर के दिखा. अगर नही कर सकता तो मुहब्बत फैला खुन्नस नही. और हाँ हथियार उठाना या नहीं उठाना ये तो तुम्हे सुनिश्चित करना होगा।

लेकिन हा अगर हथियार उठाओ तो आतंकवादियों जैसे छुप के वार मत करना खुल के मैदान मे आना, और कैसे हथियार की बात कर रहे हो अब तो केवल परमाणु हथियार ही उठाना बच गया हैं आप मूसलमानों को,गलतफहमी दूर ना हूयी हो तो वो भी उठालो अबू आजमी साहब। बस बोल दो आग लगाने वाली बोली, तुम बोलो या हिन्दू कौम से कोई बोले, आग लगा दो और अपने घर में सिक्योरिटी ले के दुबक जाओ। बाकी उस आग में जलते रहे। हिन्दू हो या मुसलमान तुम जैसे को समाज से ही बहिष्कार करना चाहिए, जो भी दो धर्मों में आग लगाए उसका बहिष्कार। तभी ऐसे लोग सुधरेंगे।

Comments

comments